सीरम और प्लाज्मा में क्या अंतर है (Different Between Serum and Plasma)

हेलो दोस्तों आज की जानकारी में हम बात करने वाले हैं सीरम और प्लाज्मा के बारे में सीरम और प्लाज्मा में क्या अंतर होता है और दोनों में क्या समानताएं होती हैं इसके बारे में जानेंगे। सबसे पहले हम ब्लड सिरम और ब्लड प्लाज्मा को अलग-अलग तरीके से समझ लेते हैं

खून का थक्का जमना जब ब्लड को कांच के ट्यूब में या फिर ब्लड टेस्ट ट्यूब में एकत्र किया जाता है तो 5 से 10 मिनट में ब्लड क्लोट हो जाता है। इसका मतलब पांच से दस मिनट में ब्लड जम जाता है। ब्लड जम जाने पर दो भागों में अलग हो जाता है। सीरम जो पीले रंग का भाग ऊपर होता है और दूसरा क्लाॅट या थक्का जो नीचे बैठ जाता है उसे सॉलिड भी कहा जाता है। और जो ऊपर लिक्विड भाग बचता है उसे सीरम कहते हैं।

सीरम-और-प्लाज्मा-में-क्या-अंतर-है

अब जानते हैं प्लाज्मा के बारे में यदि ब्लड को एकत्रित करते समय उसमें एंटीकोगुलेंट (अन्य स्कंदन लोधी) ब्लड को जमने से रोकने वाला को मिला दिया जाए तो ब्लड जम नहीं पाता और तरल ही बना रहता है ब्लड में क्लोराइड ऑक्सलेट, ट्रायसोडियम सिट्रेट और ईडीटीए मिलाने पर ब्लड जमता नहीं है सरल रूप में रहता है। एंटीकोगुलेंट मिला हुआ ब्लड दो लिक्विड भाग में अलग होता है पहला और दूसरा ब्लड सेल्स जो समय के साथ तली में एकत्रित हो जाती है क्लॉट के ऊपर परत में एरिथ्रोसाइट की परत होती है। और ऊपर प्लाज्मा होता है।

 ब्लड सीरम और प्लाज्मा में क्या अंतर है ?

चलिए समझ लेते है सीरम और प्लाज्मा के मुख्य क्या क्या अंतर है।

  1. प्लाज्मा एंटीकोगुलेटेड ब्लड से प्राप्त किया जाता है, सिरम बिना एंटीकोगुलेंट के सेपरेट हो जाता है।
  2. प्लाज्मा में क्लोटिंग फैक्टर पाए जाते हैं जो कि ब्लड को क्लोज करने में हेल्प करते हैं सीरम में क्लोटिंग फैक्टर नहीं पाए जाते हैं।
  3. प्लाज्मा में अन्य प्रोटीन के साथ घुलनशील प्रोटीन, फाइब्रिनोजन कहते हैं वह पाया जाता है जबकि सीरम में फाइब्रिनोजन नहीं होता है लेकिन सभी प्रोटीन पाया जाता है।
  4. ब्लड में प्लाज्मा की क्वांटिटी ज्यादा होती है सीरम के बजाएं। प्लाज्मा ब्लड का 55% भाग होता है।
  5. प्लाज्मा का इस्तेमाल कॉगुलेशन टेस्ट के लिए किया जाता है। सीरम सेरो डायग्नोसिस टेस्ट के लिए ज्यादा है
  6. प्लाज्मा का इस्तेमाल ब्लड ट्रांसफ्यूजन में किया जाता है।
  7. प्लाज्मा को ब्लड से अलग करना आसान होता है जबकि ब्लड से सीरम की मात्रा को अलग करना थोड़ा कठिन होता है।
  8. सीरम में 90% पानी होता है जबकि प्लाज्मा में 92-95% पानी होता है।
  9. सीरम को 2 से 6 डिग्री सेल्सियस पर कई दिनों तक रखा जा सकता है। जबकि फ्रोजन प्लाज्मा को 1 वर्ष तक रखा जा सकता है।
  10. सीरम का घनत्व 1.004 g/ml होता है जबकि प्लाज्मा का घनत्व लगभग 1025 kg/m3 या 1.025 g/ml होता है।

ऊपर बताए गए जानकारी में मुख्य रूप से सीरम और प्लाज्मा के अंतर है। जो एग्जाम में भी पीछे जा सकते है।

Leave a Reply