युवा दिवस कब और क्यों मनाया जाता है, National Youth Day?

युवा दिवस कब और क्यों मनाया जाता है इसकी पूरी जानकारी: स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 में कोलकाता में हुआ था। इनका वास्तविक नाम नरेंद्र नाथ दत्त था। अमेरिका के शिकागो में 1893 में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था इनके गुरु का नाम रामकृष्ण परमहंस था। विवेकानंद के जन्म दिवस पर ही प्रतिवर्ष 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसकी घोषणा 1984 में की गई तथा 1985 से इसे प्रतिवर्ष मनाया जाता है।

राष्ट्रीय युवा दिवस कब मनाया जाता है

भारतवर्ष में स्वामी विवेकानंद जी की जयंती हर साल 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। वास्तव में स्वामी विवेकानंद जी आधुनिक मानव के आदर्श प्रतिनिधि है। स्वामी विवेकानंद जी 12 जनवरी 1863 को कोलकाता में जन में ग्रहण किए थे। स्वामी विवेकानंद जी बहुत कम उम्र में सारे विश्व में बहुत प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु बन गए थे सन 18 सो 93 में अमेरिका के शिकागो में विश्व धार्मिक सम्मेलन में उन्होंने जब भारत और हिंदुत्व का प्रतिनिधित्व किया तो उनकी वचारों से पूरी दुनिया उनकी ओर आकर्षित हो गई थी।

विश्व धर्म सम्मेलन में जब स्वामी विवेकानंद जी ने अपने भाषण अमेरिका कि भाइयों और बहनों के सबूतों से शुरू की है तो पूरे 2 मिनट तक आर्ट इंस्टीट्यूट आफ शिकागो मैं तालियों की आवाज ऊंची रही उस दिन से भारत और भारत संस्कृति को दुनिया भर में पहचान मिल गई क्या आप जानते हैं।

ये भी पढ़े: दीपावली का त्योहार क्यों मनाया जाता है इससे संबंधित कहानी?

युवा दिवस की शुरुआत कैसे हुई

आखिर कैसे स्वामी विवेकानंद जी की जयंती के दिन राष्ट्रीय युवा दिवस मनाने की शुरुआत हुई।

स्वामी विवेकानंद चाहिए को धर्म इतिहास, दर्शन सामाजिक, विज्ञान, कला और साहित्य के ज्ञाता कहा जाता है। स्वामी विवेकानंद जी संस्कृति के साथी भारत एहसास संगीत का भी ध्यान रखते थे, और भी एक अच्छे खिलाड़ी भी थे। उनकी दिए गए विचार और कार्य आज के समय में हर युवाओं के लिए प्रेरणादायक ही हैं।

राष्ट्रीय युवा दिवस क्यों मनाया जाता है

स्वामी विवेकानन्द हमेशा अनमोल और प्रेरणादायक विचारों से युवाओं को प्रोत्साहित करते थे। इसी कारण से हर साल स्वामी विवेकानंद जी के जयंती के दिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के तौर पर मनाया जाता है।

स्वामी विवेकानंद जी की दर्शन आदर्श और कम करने की हर तरीका भारत युवाओं के लिए प्रेरणा का एक बहुत बड़ा स्रोत माना जाता है। इसीलिए स्वामी विवेकानंद जी की जयंती को राष्ट्रीय युवा दिवस के तौर पर हर साल बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। उन्होंने समाज की सेवा कार्य के लिए रामकृष्ण मिशन की स्थापना भी की अभी हम राष्ट्रीय युवा दिवस पर स्वामी विवेकानंद जी के लिए प्रेरणादायक और अनमोल विचार भी सुनते हैं।

भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस प्रत्येक वर्ष 12 जनवरी को मनाया जाता है। इस दिन बाहर भारतीय दार्शनिक स्वामी विवेकानंद जी का जन्म हुआ था 1985 से हर साल 12 जनवरी को भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

ये भी पढ़े: मिस्ड कॉल से बैंक बैलेंस चेक कैसे करें?

विवेकानंद जी का मानना था कि युवा पीढ़ी के प्रयासों के आधार पर ही हमारे देश का आर्थिक विकास संभव है वह कहा करते थे कि उठो जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य की प्राप्ति ना हो जाए युवा दिवस पर विद्यालय व कॉलेजों में कई तरह की प्रतियोगिताएं आयोजित आयोजित की जाती हैं।

युवाओं में इस दिन भरपूर जोश दिखाने को मिलता है युवा दिवस पर का दिन स्वामी विवेकानंद के प्रति काफी श्रद्धा के साथ मनाया जाता है युवा देश के महत्वपूर्ण अंग है जो देश को आगे बढ़ाता है इस दिवस को बनाने का उद्देश्य युवाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता और ज्ञान पैदा करना है।

ये भी पढ़े: करवा चौथ क्यों मनाया जाता है व्रत रखने की कहानी क्या है?

भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस कब मनाया जाता है?

12 जनवरी को भारत में राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है।

स्वामी विवेकानंद जी का वास्तविक नाम क्या है?

स्वामी विवेकानंद जी का वास्तविक नाम नरेंद्र नाथ दत्त था।

स्वामी विवेकानंद जी का जन्म कब हुआ?

स्वामी विवेकानंद जी का जन्म 1863 में हुआ था।

स्वामी विवेकानंद जी का जन्म कहां हुआ था?

स्वामी विवेकानंद जी का जन्म कोलकाता में हुआ था।

सनातन धर्म का प्रथम युद्ध कब हुआ था और किसने किया था?

स्वामी विवेकानन्द जी ने अमेरिका के शिकागो में 1893 में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था

स्वामी विवेकानंद जी के गुरु का नाम क्या था?

इनके गुरु का नाम रामकृष्ण परमहंस था।

Share on:

About Writer

Leave a Comment