Sputnik-V Vaccine in hindi-स्पुतनिक वैक्सीन खुराक,उपयोग,फायदे और दुष्प्रभाव

स्पूतनिक वैक्सीन (Sputnik-V Vaccine) कोरोनावायरस रोग की रोकथाम के लिए टीकाकरण किया जाता है। जैसा कि आप सबको पता ही होगा कोरोनावायरस एक अत्यधिक संक्रामक रोग है, जो कोरोनावायरस SARS-CoV2 के कारण होता है। स्पूतनिक वैक्सीन यह वैक्सीन दुनिया का पहला कोविड पंजीकृत वैक्सीन है, और पहले से ही 60 देशों में पंजीकृत है वैक्सीन को मास्को के गामालेया नेशनल सेंटर ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी द्वारा विकसित किया गया है या भारत में आयात के साथ है हैदराबाद स्थित डॉक्टर रेड्डी और अन्य कंपनियां निर्माण करेंगी।

भारत में भी स्पूतनिक वैक्सीन का उपयोग ज्यादा से ज्यादा किया जा रहा है। Sputnik-V Vaccine के साइड इफेक्ट की बात करें तो इंजेक्शन वाली जगह पर रिएक्शन (जैसे दर्द, सूजन और लालिमा) सिर दर्द, मचली आना,मांसपेशियों में दर्द, थकान, बुखार, ठंड लगना आदि लक्षण पाए जा सकते हैं।

Sputnik-V-Vaccine-in-hindi

Sputnik-V Vaccine के अधिकतर साइड इफेक्ट हल्के और आस्थायी ही होते हैं जो 2 या 3 दिन के भीतर कम या समाप्त हो जाते हैं। इस वैक्सीन को लगवाना सुरक्षित है, या नहीं यह आप डॉक्टर से संपर्क करके सुनिश्चित कर सकते हैं। सरकार जान इसके लिए बहुत से ऑनलाइन सहायता सुविधाएं दी है। आप ऑनलाइन भी इसके बारे में पूरी जानकारी ले सकते हैं।

अपने पिछले जानकारी जैसे एलर्जी किसी प्रकार की बीमारी और लिए जा रहे दवाओं के बारे में डॉक्टर को जरूर बताएं। बच्चे गर्भवती महिलाएं और स्तनपान करने वाली महिलाएं इस वैक्सीन का टीका नहीं लगवाना चाहिए। साथ ही यदि किसी व्यक्ति को कोई अन्य Covid Vaccine टीका लगा है तो कोवैक्सीन टीका नहीं लेना चाहिए।

स्पूतनिक वी वैक्सीन की 2 खुराक 21 दिनों के अंतराल में दी जाती है लेकिन इसके दोनों खुराक में काफी अंतर होता है। खुराक की संरचना मैं यह अंतर प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को मजबूत बनाने में मदद करता है जिससे कोविड 19 के खिलाफ विस्तृत सुरक्षा प्रदान होती है।

स्पूतनिक वैक्सीन क्या है (What is Sputnik-V Vaccine)

Sputnik-V Vaccine एक ऐसी वैक्सीन है, जिसका टीकाकरण से कोरोना संक्रमण से बचा जा सकता है। इस वैक्सीन को ऊपरी बांह की मांसपेशी में इंजेक्शन के रूप में दिया जाता है। वैक्सीनेशन कोर्स में दो अलग-अलग खुराक है। भारत सरकार द्वारा 21 दो खुराक में दी जाती है

केवल एक खुराक लेना जरूरी नहीं है। क्योंकि यह इन्फेक्शन को रोकने के लिए शरीर में एंटीबॉडी के सुरक्षात्मक स्तर का उत्पादन करने के लिए होता है, इसीलिए इसका पूरा डोज अवश्य लगाएं।

स्पूतनिक वैक्सीन इंजेक्शन कंटेंट,कंपोजिशन (Sputnik-V Vaccine Content/composition)

PrescriptionRequired
Content Composition (Salt)Human adenovirus vector vaccine (NA)
ManufacturerDr Reddy’s Laboratories Ltd
StorageStore in a refrigerator 2 to 8°C Don’t Freeze.
Chemical classVaccine

स्पूतनिक वैक्सीन के उपयोग (Sputnik-V Vaccine Uses)

स्पूतनिक वैक्सीन का उपयोग कोरोनावायरस बीमारी की रोकथाम के लिए लगाया जाता है। इसके अलावा भले ही आप संक्रमित ना हो स्पूतनिक वैक्सीन कोविड-19 संक्रमण की प्रति एंटीबॉडी बनाता है जिससे आपका शरीर कोरोनावायरस से बचान के लिए एंटीबॉडी को तैयार कर सकें।

स्पूतनिक वैक्सीन बैक्सीन के फायदे (Sputnik-V Vaccine Benifits)

स्पूतनिक वैक्सीन का उपयोग कोविड-19 संक्रमण को रोकने के लिए किया जाता है, यदि आप रोना वायरस से संक्रमित ना हो फिर भी इस वैक्सीन को ले सकते हैं। लेने के बाद या आपके शरीर में Corona के विपरीत एंटीबॉडी तैयार कर देता है।

इसके अलावा अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक सावधानी जैसे फेस मास्क पहनना, भीड़भाड़ वाली जगह से बचना, अपने हाथ को नियमित अंतराल पर हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करके धोना और सार्वजनिक दूरी बनाए रखना।

स्पूतनिक वैक्सीन इस्तेमाल कैसे करें (How to Use Sputnik-V Vaccine)

इस वैक्सीन का उपयोग बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं लिया जाता है। इसे भूल कर भी बिना किसी डॉक्टर की सलाह के ना लें।

स्पूतनिक वैक्सीन काम कैसे करता है (How to Work Sputnik-V Vaccine)

Sputnik-V Vaccineहमारे शरीर में एंटीबॉडी तैयार करता है। जिससे कोरोनावायरस लड़ नहीं पाता है और वह बीमारी पैदा नहीं कर पाता है। जिसके बाद वायरस खत्म हो जाता है। इस वैक्सीन को लेने से हमारे बॉडी में कोरोनावायरस के इंफेक्शन से बचा जा सकता है।

स्पूतनिक वैक्सीन के दुष्प्रभाव (Sputnik-V Vaccine Side effects)

इस वैक्सीन के होने वाले अधिकांश साइड इफेक्ट में डॉक्टर की सलाह लेना आवश्यक नहीं है, यदि आपको साइड इफेक्ट होता है, तो डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

  • इंजेक्शन लगने वाली जगह पर दर्द, सूजन, लालिमा
  • सिर दर्द
  • मचली आना
  • उल्टी
  • मांसपेशियों में दर्द
  • जोड़ों का दर्द
  • थकान
  • बुखार
  • ठंड लगना
  • फ्लू जैसे लक्षण

इंजेक्शन वाली जगह पर दर्द सूजन लालिमा सर दर्द उल्टी होना जोड़ों का दर्द थकान बुखार ठंड लगना और फ्लू जैसे लक्षण कोवैक्सीन के साइड इफेक्ट हो सकते हैं।

खास टिप्स

  1. Sputnik-V Vaccine की पूरी खुराक लेना आवश्यक है।
  2. यह वैक्सीन आमतौर पर बाह के ऊपरी हिस्से की मांसपेशी में इंट्रामस्कुलर दिया जाता है।
  3. कोरोना की वैक्सीन लगवाने से पहले उचित भोजन अवश्य करें खाली पेट टीका ना लगाएं।
  4. Sputnik-V Vaccine लगाने से पहले चल रही दवाएं या किसी भी प्रकार की एलर्जी है तो डॉक्टर को जरूर बताएं।

टीकाकरण के अलावा सामाजिक दूरी मास्क पहनना और सैनिटाइजर से हाथ साफ करना जैसे सुरक्षा नियंत्रण उपायों का पालन अवश्य करें।

सुरक्षा संबंधी सलाह

क्या का उपयोग करते समय शराब का सेवन कर सकते हैं?

स्पूतनिक वैक्सीन के साथ अल्कोहल का सेवन करना सुरक्षित नहीं है यदि आप ऐसा करते हैं, तो इसके कातक साइड इफेक्ट हो सकते हैं।

क्या गर्भवती महिलाओं को स्पूतनिक वैक्सीन लगाना सुरक्षित है?

गर्भवती महिला को स्पूतनिक वैक्सीन लगवाने से पहले डॉक्टर की सलाह लेना आवश्यक है।

क्या स्तनपान के करने वाली महिला को स्पूतनिक वैक्सीन लगवाना चाहिए?

स्तनपान करने वाली महिला को स्पूतनिक वैक्सीन लगवाने से पहले डॉक्टर की सलाह लेना आवश्यक है।

क्या को स्पूतनिक वैक्सीन लगवाने के बाद गाड़ी चलाना सुरक्षित है?

हां इस वैक्सीन क लगाने के बाद गाड़ी चलाने में कोई समस्या नहीं होती है। यदि आपको ऐसी कुछ समस्या होती है तो डॉक्टर से संपर्क करें

क्या को स्पूतनिक वैक्सीन लगवाने के बाद गाड़ी चलाना सुरक्षित है?

हां इस वैक्सीन क लगाने के बाद गाड़ी चलाने में कोई समस्या नहीं होती है। यदि आपको ऐसी कुछ समस्या होती है तो डॉक्टर से संपर्क जरुर करें।

क्या किडनी की बीमारी में स्पूतनिक वैक्सीन सुरक्षित है?

किडनी की समस्या होने पर को स्पूतनिक वैक्सीन लगवाने से पहले डॉक्टर की सलाह लेना आवश्यक है।

क्या लीवर की बीमारी में स्पूतनिक वैक्सीन सुरक्षित है?

लीवर की समस्या होने पर स्पूतनिक वैक्सीन लगवाने से पहले डॉक्टर की सलाह लेना आवश्यक है।

महत्वपूर्ण सवाल

कोरोनावायरस क्या है?

यह covid-19 के नाम से जाना जाता है जिसे बायोलॉजिकल भाषा में SARS-COV2 कहा जाता है। यह SARS-CoV2 एक Viruse है। जो फेफड़ों में होने वाला बीमारी पैदा करता है जो अत्यधिक घातक होता है और यह बहुत तेजी से फैलने वाला वायरस होता है।

SARS-CoV2 क्या है?

यह एक प्रकार का वायरस है जो मनुष्य में बहुत तेजी से फैलता है।

क्या स्पूतनिक वैक्सीन बच्चों को दिया जा सकता है?

बच्चों के लिए स्पूतनिक वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है यह जल्द ही बच्चों के लिए उपलब्ध है किया जाएगा।

स्पूतनिक वैक्सीन के साइड इफेक्ट क्या है?

इस वैक्सीन से सर दर्द थकान बुखार मांसपेशियों में दर्द ठंड लगना जोड़ों में दर्द और मिचली आना जैसी समान साइड इफेक्ट देखे जा सकते हैं।

स्पूतनिक वैक्सीन किसे नहीं लगवाना चाहिए?

इस दवा से संबंधित एलर्जी या किसी गंभीर बीमारी होने पर यह वैक्सीन लेना उचित नहीं है। कृपया डॉक्टर की सलाह के बाद ही इस वैक्सीन को लगवाए।

स्पूतनिक वैक्सीन को कितने तापमान में रखा जाता है?

कोरोना वैक्सीन यानी कि स्पूतनिक वैक्सीन 2 से 8 डिग्री सेल्सियस तापमान पर रखा जाता है।

क्या स्पूतनिक वैक्सीन लगवाने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कराना आवश्यक है?

ऐसा जरूरी तो नहीं है लेकिन आप ऑनलाइन माध्यम से रजिस्ट्रेशन और अपॉइंटमेंट लेकर लगवा सकते हैं। कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कैसे किया जाता है हमने इसकी जानकारी पिछली जानकारी में बताया है।

इस वैक्सीन को लगवाने के लिए कौन सा दस्तावेज होना जरूरी है?

स्पूतनिक वैक्सीन लगवाने के लिए फोटो आईडटिफिकेशन कार्ड जैसे आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, पैन कार्ड और मोबाइल नंबर का होना आवश्यक है।

स्पूतनिक वैक्सीन के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कैसे किया जाता है?

स्पूतनिक वैक्सीन पंजीकरण करने के बारे में। Covid-19 Vaccination के लिए आवेदन कैसे करें कोरोना टीका कैसे लगवाए पर जाए।

स्पूतनिक वैक्सीन की खुराक

स्पूतनिक वैक्सीन को दो खुराक में लगाया जाता है इसे 21 दिनों के अंतराल पर दो खुराक में दी जाती है हालांकि किसी भी अन्य कोविड-19 वैक्सीन के विपरीत स्पूतनिक बी वैक्सीन की दोनों खुराक एक दूसरे से भिन्न है।

चेतावनी– किसी भी तरह की दवा का सेवन करने से पहले चिकित्सक का परामर्श जरूर लें। Mybestindia द्वारा दवा के बारे में बताई गई जानकारी उपभोक्ता को शिक्षित करने के लिए है। इस वेबसाइट का यह मतलब नहीं है कि किसी भी दवा को अपने ही द्वारा उपयोग। किसी भी प्रकार की दवा को लेने से पहले कृपया चिकित्सक परामर्श जरूरी है।

2 Comments

  1. Kapil dev
  2. AJIT RAJ

Leave a Reply