मधुमेह या डायबिटीज मेलिट्स क्या है What is Diabetes in hindi

हेलो फ्रेंड आज की हिंदी जानकारी में हम जानेंगे डायबिटीज यानी कि मध्य में रोग के बारे में डायबिटीज क्या है कैसे होता है डायबिटीज का नार्मल स्तर क्या है। मधुमेह में हमें क्या खाना चाहिए क्या नहीं खाना चाहिए क्या बयाम करना चाहिए आज की जानकारी हम इसी के बारे में जानेंगे।

डायबिटीज क्या है (What is Diabetes)

रक्त में ग्लूकोज की मात्रा अधिक होन ही डायबिटीज है।

यह तभी होता है जब पेनक्रियाज इंसुलिन हार्मोन बनाना कम या बंद कर देता है।

सामान्य डायबिटीज अस्तर (normal diabetes level)

यदि आप डायबिटीज टेस्ट करवाते हैं तो ब्लड के द्वारा उसकी रीडिंग आपके ब्लड में कितना शुगर है यह पता चल जाता है।

  • Fasting – below 100mg/dl
  • After Meal – 70-130mg/dl
  • After food (1-2 hours) -Less then 180mg/dl

मधुमेह के क्या लक्षण हैं symptoms of diabetes

  • अत्यधिक प्यास लगना
  • अत्यधिक भूख लगना
  • बार बार पेशाब लगना
  • दृष्टि दूधली पढ़ना या मंद हो जाना
  • थकान महसूस होना

किन-किन लोगों में मजे में होने की संभावना अधिक होती है। Who are prone to develop diabetes

  • जिनके परिवार जन में मधुमेह रोग हो
  • जिनको उच्च रक्तचाप एवं रक्त में चर्बी की मात्रा अधिक हो
  • मधुमेह होने के अवसर अधिक उम्र 45 वर्ष से ज्यादा
  • मोटापा एवं आराम परिषद लोगों में अधिक होती है
  • जिनका वजन औसतन ऊंचाई और वजन तालिका से 20% अधिक हो

किन-किन तरीके को अपनाकर हम मधुमेह को नियंत्रण कर सकते हैं ( control of diabetes)

डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए हम आपको नीचे कुछ तरीके बताने वाले हैं या ध्यान से पढकर और उसका पालन करें

आहार

शक्कर रहित रेशे युक्त स्वास्थ्यवर्धक भोजन करें चर्बी वसायुक्त भोजन पदार्थ तथा डेरी पदार्थों का उपयोग कम करें

कसरत तथा बयान

व्यायाम से रक्त प्रवाह बढ़ता है जिससे हृदय संबंधी रोगों की संभावना घट जाती है तथा गुरु को शरीर की सभी कोशिकाओं तक अच्छे से पहुंच जाता है।

दवाइयां

खाने वाली गोलियां तभी प्रभाव कारी होती है जब आपकी शरीर में इंसुलिन उत्पन्न करने की क्षमता बाकी रहे।

जब खाने वाली दवाइयां काम ना करें तब बाहर से इंसुलिन का प्रयोग किया जाता है।

मधुमेह के रोगियों की खुराक d(plan of diabetes patient)

मधुमेह रोगी को क्या खाना चाहिए क्या नहीं खाना चाहिए इसके बारे में जानकारी जरूर होनी चाहिए ताकि आप डायबिटीज को कंट्रोल कर सके ब्लड में शुगर लेवल को कम कर सकें।

सीमित फल

मधुमेह रोगियों को कम कैलोरी वाले कम मीठे कम पके अमरूद सेब काला जामुन व खरबूजा आदि

कृत्रिम मिठास

मधुमेह रोगियों के लिए शुगर फ्री गोलियां दी जाती हैं

खाद्य पदार्थ जो बिल्कुल मना है

गुड़ शक्कर गुलकोज शहर मिठाइयां बिल्कुल ना खाएं

खाद्य पदार्थ जो कम लेनी चाहिए

आम केला अंगूर शकरकंद आलू पपीता यह सब चीजें बहुत कम खाएं

खाद्य पदार्थ जो जितना चाहे ले सकते हैं

हरे पत्ते वाली सब्जियां सलाद अचार चटनी छाछ नींबू पानी बिना शक्कर वाली चाय काफी बिना शक्कर वाली

मधुमेह रोगियों को किस प्रकार के व्यायाम करना उचित है

  • दौड़ना
  • तेज रफ्तार में चलना
  • सिंधी चढ़ना
  • तैरना
  • साइकिल चलाना
  • कुर्सी से कसरत

मधुमेह के नियंत्रण और रोकथाम हेतु कई अन्य तरीके

  • भोजन नियमित रूप से लें
  • अपने ब्लड शुगर की नियमित जांच करें
  • अपना रोगी पहचान पत्र अवश्य साथ में रखे
  • आपातकाल के लिए कुछ मीठी वस्तु हमेशा अपने साथ में रखें
  • उचित मात्रा में दवा का सेवन ना करें

डायबिटीज एवं आंखें

  • डायबिटीज रोगी में आंखों की बीमारी सामान्य व्यक्ति की अपेक्षा 20% अधिक मात्रा में होती है।
  • प्रमुख लक्षण सिर दर्द आंखों से पानी आना काले धब्बे दिखना चश्मा के नंबरों का नियंत्रण बदलते रहना।
  • डायबिटीज रोगी को 30 से 40 साल की उम्र में ही मोतियाबिंद हो जाता है।
  • हर मधुमेह के रोगी को वर्ष में एक बार आंखों की जांच अवश्य करनी चाहिए।

डायबिटीज एवं गर्भवती महिलाएं

कई बार डायबिटीज के बारे में पहले ज्ञान नहीं होता है परंतु एकाएक गर्भधारण के बाद दो दूसरा पता चलता है गर्भवती महिलाओं में इंसुलिन के बनने अधिक मात्रा में बनने में भीगने पड़ने की वजह से यह अवस्था होती है।

  • गर्भवती महिला को डायबिटीज के लिए जांच करानी चाहिए
  • खाली पेट एवं बिना खाली पेट मरोड़ शुगर कम सा 70/105mg/dl से अधिक नहीं होनी चाहिए।

मधुमेह एवं दंत रोग

मधुमेह के रोगियों को मसूड़ों एवं दातों की अधिक समस्याएं होती हैं क्योंकि इन लोगों में बढ़े हुए ब्लड शुगर के कारण मसूड़ों में बैक्टीरियल इंफेक्शन हो जाता है जो आगे चलकर दांतो को कमजोर कर देता है मधुमेह के रोगियों को यह सावधानी लेनी चाहिए।

  • मिठाइयों एवं ठंडे कार्बोनेटेड पेय का सेवन ना करें
  • हरे कृष्ण के बाद दांतो को नरम रूप से अच्छी तरह साफ करें।
  • मसूड़ों की उंगली से मालिश करें एवं दांतो के बीच के जगह को धागे से सफाई करें।
  • अपने दंत चिकित्सक के संपर्क में रहें।

कुछ जो याद रखनी चाहिए

  • अगर मां-बाप को मधुमेह रोग है तो बच्चों को अपने वजन एवं खानपान पर ध्यान देना चाहिए वजन के बढ़ने के साथ-साथ मधुमेह की संभावना बढ़ जाती हैं।
  • संतुलित आहार एवं नियमित पयाम आपके मधुमेह को नियंत्रण में रख सकते हैं।
  • कभी भी किसी के कहने पर अपनी दवाइयों को ना बदले।
  • कभी भी दवाइयों को अल्कोहल के साथ ना लें।
  • मधुमेह के रोगी जो धूम्रपान करते हैं या तंबाकू का सेवन करते हैं इनको हार्टैक अंधापन पैरों में खराबी की संभावना हो जाते हैं।
  • अधिक भोजन यह सोचकर ना करें मैं एक गोली और अधिक ले लूंगा
  • कभी भी किसी जादुई दवा के चक्कर में अपनी दवाइयां लेना बंदना करें
  • अगर दवाइयों से मधुमेह नियंत्रण में नहीं है तो इंसुलिन लेने की सलाह मिलने पर इसका सेवन करें अनदेखा ना करें क्योंकि मधुमेह की जटिलताएं आपके रहन-सहन एवं दैनिक जीवन के कार्यक्रम में दुविधा पैदा कर सकते हैं

एलर्जी (Allergy) क्या है प्रकार, लक्षण, कारण और उपचार क्या क्या है ?

रक्त क्या है कार्य और कैसे बनता है ?

Gram Pradhan Work List-ग्राम पंचायत में प्रधान द्वारा किए गए कार्य की जानकारी ?

आशा करता हूं कि हमारे बताए गए जानकारी आपको समझ में आ गई हो इस जानकारी में हमने डायबिटीज के बारे में बहुत कुछ बताया और आगे भी जानकारी को अपडेट करके बताते रहेंगे कृपया जानकारी के बारे में अपना सुझाव जरूर दें।

Leave a Reply