Home फाइनेंस और इंश्योरेंस सबसे ज्यादा टैक्स देने वाला शक्स कौन है ये मुकेश अंबानी, गौतम...

सबसे ज्यादा टैक्स देने वाला शक्स कौन है ये मुकेश अंबानी, गौतम अडानी, रतन टाटा, गौतम सिंघानिया या दिलीप सांघवी नहीं हैं?

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

वित्त वर्ष 2022-23 के लिए आयकर रिटर्न (आईटीआर) दाखिल करने की समय सीमा आज (31 जुलाई) समाप्त होने वाली है। आयकर विभाग ने रविवार को कहा कि वित्त वर्ष 2022-23 में अब तक 6 करोड़ से अधिक आईटीआर दाखिल किए जा चुके हैं। इसमें कहा गया कि रविवार शाम तक करीब 27 लाख आईटीआर दाखिल किये गये।

रिटर्न फाइलिंग के सीजन में आपके मन में यह सवाल जरूर आया होगा कि देश में सबसे ज्यादा इनकम टैक्स कौन भरता है? बहुत संभव है कि आपने इस सवाल का जवाब खुद दिया हो और सोचा हो कि अंबानी-अडानी या टाटा-बिड़ला… इनमें से कोई एक भारत का सबसे बड़ा करदाता होगा. अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो बिल्कुल गलत सोचते हैं.

अक्षय कुमार भारत के सबसे बड़े करदाता

अब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा कि भारत में सबसे ज्यादा टैक्स देने वाला कौन है और यह बहुत संभव है कि आप में से कई लोग मुकेश अंबानी, गौतम अडानी, रतन टाटा या किसी अन्य उद्योगपति के बारे में सोचेंगे। लेकिन ऐसा नहीं है क्योंकि भारत के सबसे ज्यादा पैसे कमाने वाले बॉलीवुड सुपरस्टार अक्षय कुमार हैं।

अक्षय कुमार सबसे ज्यादा टैक्स देने वाले भारतीय है?

आयकर विभाग की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, पिछले साल यानी वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान अक्षय कुमार भारत के सबसे बड़े करदाता थे. अक्षय कुमार ने 2022 में 29.5 करोड़ रुपये का इनकम टैक्स जमा किया था। उन्होंने अपनी साल की कमाई 486 करोड़ रुपये बताई थी।

अक्षय कुमार की गिनती बॉलीवुड के सबसे बड़े सितारों में होती है और वह सबसे ज्यादा फीस लेने वाले अभिनेताओं में से एक हैं। अक्षय कुमार साल में लगभग 4-5 फिल्में देते हैं। इसके अलावा अक्षय कुमार अपना प्रोडक्शन हाउस और स्पोर्ट्स टीम भी चलाते हैं। वह विभिन्न ब्रांडों के विज्ञापन से भी अच्छी खासी कमाई करते हैं। अक्षय कुमार 2022 से पहले ही भारत में शीर्ष आयकर दाता रहे हैं। वित्तीय वर्ष 2020-21 में उन्होंने 25.5 करोड़ रुपये का आयकर जमा किया था।

अब सवाल उठता है कि मुकेश अंबानी, गौतम अडानी या रतन टाटा देश के शीर्ष करदाताओं में क्यों नहीं हैं? गौरतलब है कि कारोबारियों के पास निजी संपत्ति नहीं होती बल्कि उनकी कंपनियों के नाम पर संपत्ति होती है. ऐसे में कमाई भी उनकी कंपनियों के हिस्से में जाती है, जिसके बदले में कॉर्पोरेट इनकम टैक्स चुकाया जाता है

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here