Centrifuge Machine क्या है सैंपल सेंट्रीफ्यूज कैसे करते है।

आज की जानकारी में हम बात करने वाले हैं सेंट्रीफ्यूज मशीन के बारे में सेंट्रीफ्यूज मशीन क्या है Centrifuge Machine कैसे काम करता है सेंट्रीफ्यूज मशीन क्या काम करती है और ब्लड को सेंट्रीफ्यूज कैसे किया जाता है इसके बारे में भी जानेंगे।

Centrifuge Machine का हर लैब में बहुत ही महत्वपूर्ण काम होता है यह सभी लैब में होना जरूरी है बेसिकली यह पैरा मेडिकल स्टूडेंट को जरूर पता होना चाहिए, इसका इस्तेमाल कैसे करते हैं। कैसे हम ब्लड को सेंट्रल प्रयोग करते हैं ब्लड के सिरम और प्लाज्मा को अलग कैसे करते हैं। Centrifuge Machine द्वारा। तो आज की है जानकारी पैरामेडिकल स्टूडेंट के लिए है यदि आपको नहीं पता सेंट्रीफ्यूज मशीन कैसे इस्तेमाल करते हैं तो हमारे इस जानकारी को पूरा पढ़कर जान सकते हैं।

Centrifuge-machine-work-in-hindi

जैसा कि हमने बताया Centrifuge Machine का सभी लैब में महत्वपूर्ण भूमिका होती है। चाहे वह हेमेटोलॉजी का हो या बायोकेमिस्ट्री का लैब हो या साइटोलॉजी हो या सेरोलॉजी सभी डिपार्टमेंट में सेंट्रीफ्यूज मशीन का काम रहता है। इसका मेन काम है सिप्रेशन का चाहे वह ब्लड सैंपल हो या यूरीन सैंपल हो या कोई भी प्रयोग हो जो सैंपल के पार्टिकल्स होते हैं उन्हें सेपरेट करने के लिए। यह ब्लड में प्लाज्मा सिरम एंटीकोगुलेंट सैंपल है तो उसका प्लाज्मा निकालना है या किसी फ्लूड को सेपरेट करना उसके लिए सेंट्रीफ्यूज मशीन का इस्तेमाल करते हैं।

सेंट्रीफ्यूज मशीन क्यों जरूरी है ?

बायोकेमिस्ट्री और सेरोलॉजी टेस्ट किले सिरम और प्लाज्मा होना जरूरी है सिरम और प्लाज को प्राप्त करने के लिए ब्लड को सेपरेट होना जरूरी है ब्लड सेपरेट करने के लिए सेंट्रीफ्यूज मशीन का होना जरूरी है।

यदि हम सेंटर की एक मशीन का उपयोग नहीं करते हैं तो हमें ब्लड को सेंट्रीफ्यूज करने के लिए कई घंटों इंतजार करना पड़ेगा लेकिन सेंट्रीफ्यूज मशीन से 2 मिनट में मिनट ब्लड सेपरेट हो जाता है।

Centrifuge Machine काम कैसे करता है ?

जैसे कि आप जानते हैं सेंटर पिक मशीन एक गोलाकार का स्टूमेंट होता है जो लाइफ में प्लाईवुड को सेपरेट करता है यह काम कैसे करता है इसलिए इसके बारे में भी जान लेते हैं। सेंटर पर मशीन में अंदर की तरफ वायल यानी कि टेस्ट ट्यूब रखने के लिए चारों तरफ जगह बनी होती है जिसमें हमें सैंपल रखना होता है जिस भी सैंपल को सेपरेट करना है।

उस सैंपल को Centrifuge Machine के अंदर टेस्ट ट्यूब रखना है और रखने के बाद उसके ठीक सामने हमें कोई दूसरा टेस्ट ट्यूब रख लेना है क्योंकि सिर्फ एक टेस्ट ट्यूब सेंटर मशीन में नहीं रखा जाता उसके सामने एक दूसरा टेस्ट ट्यूब रख देने से इसकी राउंडिंग किले बराबर रहती है।

और जब हम इस मशीन को घुमाते हैं वह टेस्ट ट्यूब में जो तरल पदार्थ रहता है ऊपर आ जाता है और जो सॉलिड ठोस पदार्थ होता है वह नीचे बैठ जाता है जो ऊपर होता है सुपरनेंट और जो नीचे होता है। सेडीमेंट, सेंट्रल पर्क मशीन में कई फीचर दिए होते हैं इसमें आप आरपीएम सेट कर सकते हैं इसकी गति को कंट्रोल कर सकते हैं आजकल डिजिटल सेंटर पर मशीन आते हैं उसमें समय भी आप सेट कर सकते हैं आरपीएमबी सेट कर सकते हैं।

सेंट्रीफ्यूज मशीन का इस्तेमाल क्यों किया जाता है

आपको याद रखना है Centrifuge Machine किसी भी सैंपल को (चाहे वह ब्लड सैंपल हो या यूरिन सैंपल हो कोई भी फ्लूड सैंपल हो) उसे सेपरेट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

सेंट्रीफ्यूज मशीन में टेस्ट ट्यूब के सामने दूसरा टेस्ट ट्यूब क्यों रखते हैं

Centrifuge Machine में रोटेटर की बैलेंस को बनाए रखने के लिए सैंपल टेस्ट ट्यूब के सामने दूसरा टेस्ट ट्यूब उसी सैंपल के समान पानी डाल कर रखा जाता है। या कोई दूसरा सैंपल टेस्ट ट्यूब भी रख सकते है। यादि उसके सामने दूसरा ट्यूब नहीं रखते हैं तो सैंपल ही हेमोलाइज भी हो सकता है। जिससे ब्लड के सेल्स टूट जाते हैं और सीरम और प्लाज्मा अलग नहीं हो पाएगा।

Leave a Reply