उपवास के फायदे और नुकसान व्रत के महत्व क्या है।

उपवास स्वास्थ्य लाभ की अनूठी प्रकिर्या है। लोगो को लगभग एक हफ्ते या फिर 15 दिन में व्रत जरूर रखना चाहिए। दोस्तो व्रत रखना काफी फायदेमंद होता है। ये शारीरिक और मानसिक दोनों के लिए लाभकारी होता है।

व्रत के कई फायदे है। इस से मानसिक शांति तो मिलती ही है स्वस्थ और फिट रहने के साथ शारीर में नयी ऊर्जा का संचार होता है। भारत में कई इसे त्योहार होते है। जिनमे लोग व्रत रखकर पूजा करते है। और इस दौरान वो खाना यानी की अन्य ग्रहण नहीं करते पूजा संपन्न होने के बाद ही अन्य जल ग्रहण करते है।

फसबूक के एनालिटिक्स निर्देसक डैन जिगमोंड ने कहा की प्रतिदिन 15 घंटे के उपवास ने उनकी जिंदगी बदल दी और इसके जरिये उन्हीने 1 साल में 15 किलो वजन कम किया

जैन डी का कहना है कि उपवास स्वस्थ लाभ की अनुधि प्रकिरिया है। इसे जीवन का हिस्सा बना कर सरीर का कार्यकलाप किया जा सकता है । उपावास रखने से पाचन तंत्र दुरुस्त रहता है।

व्रत क्या है इसके फायदे और नुकसान क्या क्या है।

जिससे सरीर में उपस्थित बिसाक्त पदार्थो का निस्कदं आसानी से हो जाता है। हर सप्ताह रखने से कोलेस्ट्रॉल की मात्रा घटने लगती है। जो धमनियों के लिए लाभदायक होता है। जो लोग सप्ताह या 15 दिन में उपवास रखते है उनमें रोग प्रति रोधक छमता अधिक होती है।

व्रत क्या है ?

यदि उपवास की परिभाषा की बात करे तो ये हर व्यक्ति के लिए भिन्न भिन्न हो सकती है। आमतौर पर जब भी उपवास रखा जाता है। उस समय लोग जिस टाइप का व्रत रखते है। रख सकते उपवास की परिभाषा के लिए हम व्रत को कई भागो में भाट कर समझ सकते है।

आमतौर पर व्रत के दौरान लोग खाना नहीं खाते है।

उपवास के प्रकार

अगर देखा जाए तो व्रत को लोग अलग अलग तरह से करते है। व्रत कई तरह के होते है।

  1. एक दिन का
  2. साप्ताहिक
  3. फलाहारी
  4. निर्जल

उपवास के फायदे और नुकसान About Fasting in hindi

उपवास के फायदे

उपवास करने के बहुत से फायदे है। जो निम्नलिखित है।

  1. मोटापा कम होना-निराहार रहने से सरीर में जमा वासा और स्टार्च पच जाती है। इससे वसायुक्त कोशिकाएं पिछलने लगती है । जिससे मोटापा कम होता है।
  2. पाचन शक्ति बढ़ेगी-व्रत करने से ऑटो को पूरी तरह आराम मिल्या है। जिसके कारण चयापचय की क्रिया (मेटाबोलिज़म) अधिक किशलता से कम करती है। और पाचन शक्ति बढ़ जाती है।
  3. दिल दुरुस्त रहता है-कोलेस्ट्रॉल की अधिक मात्रा होने से सरीर में trigilseride बढ़ने लगता है। जिससे ह्रदय सम्बंधित बीमारिय का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन व्रत करने करने से सरीर में ख़राब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है। जिससे हिर्दय स्वस्त रहता है।
  4. बिसाक्त पदार्थ बहार निकल जाते है-इसमें सरीर अपनी सफाई करता है उपवास करने से सरीर में उत्पन्न होने वाले विसक्तत पदार्थ (टॉक्सिन) पेसाब एवं पसीना के रूप में बहार निकल जाता है।

उपवास के नुकसान

  1. उपवास करने के कुछ सावधानियां भी जरुरी बरतनी होती है।यदि आप शरीरिक रूप से कमजोर है।या फिर कोई बीमारी हो तो उपवास न रखे
  2. गर्ववती महिलावो को व्रत नही रखना चाहिए क्योंकि इसका असर होने वाले नवजात सिसु पर सकाता है।
  3. शारीरिक क्षमता से अधिक उपवास नही रखना चाहिए सरीर को अत्यधिक कास्ट देकर व्रत रखना हानिकारक है।

घर बैठे Online Internet Se Paisa Kaise Kamaye 8 तरीके 100%…

अंतिम शब्द

आज की जानकारी में हमने व्रत के बारे में जाना व्रत रखना काफी फायदेमंद होता है। तो कैसे लगी आपको हमारी ये जानकारी आशा करते है कि आपको हमारी ये जानकारी अच्छी लगी अपने लोगो के साथ इसे साझा जरूर करे।

Leave a Reply