युवा दिवस पर भाषण: National Youva Divas Speech in hindi?

आज की जानकारी में हम युवा दिवस पर भाषण कैसे दिया जाए इसके बारे में बताने वाले हैं। जैसा कि आपको पता ही होगा प्रत्येक वर्ष 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है, तो इसी टॉपिक पर आप किस प्रकार से प्रभावशाली भाषण दे सकते हैं यह सीखेंगे, तो चलिए शुरू करते हैं।

युवा दिवस पर भाषण: National Youva Divas Speech in hindi?
युवा दिवस पर भाषण

स्वामी विवेकानंद एक ऐसा नाम जिनके के लिए परिचय की कोई आवश्यकता नहीं है सारी दुनिया जानती है, सम्मान करती है। दुनिया उनके आदर्शों और सिद्धांतों का पालन करती है। बंगाल की पुण्य भूमि में जन्म लेकर उन्होंने शिकागो, अमेरिका जैसे खुद को आधुनिक समझने वाले सभी पश्चिमी सभ्यता को भारत के महान संस्कृति और आदर्श से परिचय कराया।

विश्व धर्म संसद में आधुनिक अमेरिकियों में सर पर पगड़ी हाथ में डंडा और तन पर लपेटे चादर स्वामी जी की सन्यासी वाली भेसभुसा उनके लिए एक मजाक का विषय था। एक महिला ने उन्हें देखकर कहा कि इन महाशय को देखो कैसे अजीब वस्त्र पहनी हुई है।

इसे सुनकर स्वामी विवेकानंद ने उन्हें जवाब दिया कि आपके देश में इंसान की परख उनके द्वारा पहने गए कपड़ों से होती है, लेकिन मैं उस देश से आया हूं जहां इंसान की परख उनके आचरण उनके व्यवहार और उनके चरित्र से होती है। तन ढकने के लिए अच्छे कपड़े तो एक दिखावा है।

इंसान का चरित्र ही उसकी व्यक्तित्व का आधार होता है। इसी प्रकार विश्व धर्म संसद में भी स्वामी विवेकानंद जी ने अपने तर्कसगत जवाबों के साथ खुद को महान समझने वाले पश्चिमी सभ्यता और उनके विद्वानों को भारत भूमि की महानता के सामने बौना सिद्ध किया था। स्वामी विवेकानंद हर भारतीय और पूरे विश्व के लिए सदैव प्रेरणा के स्रोत बने रहेंगे।

राष्ट्रीय युवा दिवस पर भाषण

सबसे पहले भाषण की शुरुआत में आपको संबोधन देना होता है। उसके लिए शुरुआत कैसे करनी है इसके बारे में चलिए जानते हैं।

ये भी पढ़े: युवा दिवस कब और क्यों मनाया जाता है, National Youth Day?

यह उपस्थित सभी को मेरा नमस्कार आज हम सभी राष्ट्र अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस मनाने के लिए यहां पर एकत्र हुए हैं।

“युवा शक्ति है जो सृजन कर सकती है”

युवा क्रांति तथा ऊर्जा का स्रोत है इस क्रांति एवं पूजा का प्रयोग रचनात्मक एवं सृजनात्मक हो इसी उद्देश्य से संपूर्ण विश्व प्रत्येक वर्ष 12 अगस्त को राष्ट्रीय युवा दिवस मनाता है।

सर्वप्रथम सन 2000 में अंतरराष्ट्रीय युवा दिवस मनाया गया था युवा शक्ति की विध्वंस कार्य में लेना होकर निर्माण कार्य में अपनी उर्जा लगाएं यही स्थित उसको बनाने का मुख्य धैर्य होता है। स्वामी विवेकानंद की युवाओं से बहुत अपेक्षाएं थी एक बनाते थे कि युवा दुर्गा में बुनियादी दृष्टिकोण रखते हैं और नव निर्माण की क्षमता रखते हैं। युवा देश का वर्तमान है युवा ही देश का भविष्य है। यह उस नियम की भांति है जिस पर देश की प्रगति और विकास टिका हुआ है।

आज का युवा भ्रष्टाचार, आरक्षण और महंगी शिक्षा की मार झेल रहा है। इन जटिल परिस्थितियों से लोहा भी युवा ही ले सकता है। कुछ राष्ट्रों में नौजवान ऊर्जा व्यस्त हो रही है। बेरोजगारी जैसे ही हालत बने हुए हैं। इसका समाधान करना ही होगा युवा सपनों को आकार देकर उन्हें साकार करना यानी कि देश की उन्नत भविष्य का निर्माण ही युवा शक्ति को रचनात्मक एवं सृजनात्मक दिशा में मोड़ आएगा, तो यदि युवा गलत दिशा की जाएगा तो यह निश्चित रूप से यह बेहद खतरनाक होगा।

पूरी दुनिया की सरकारों युवाओं के मुद्दों उनके सपनों उनके लक्ष्य पर ध्यान दें सामाजिक आर्थिक सांस्कृतिक और राजनीतिक प्रत्येक स्तर पर उनकी भागीदारी सुनिश्चित हो तभी इस दिवस को मनाने का उद्देश्य सार्थक पाया जाएगा।

“युवा दिवस को अगर सार्थक है बनाना तो युवाओं के मुद्दों पर गौर होगा फरमाना”

तो दोस्तों युवा दिवस पर भाषण देने की था आपको कैसी लगी यदि आप कोई शंकर से समझे कुछ पूछना है तो नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं।

ये भी पढ़े: Youth Day Image, Quotes and Slogan युवा दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं?

Share on:

About Writer

Leave a Comment