Triphala क्या है त्रिफला खाने के फायदे क्या क्या है ?

त्रिफला 3 फलों या जड़ी बूटियों का एक संयोजन है हरितकी, बिभितकी और आमलकी। आयुर्वेद में इसे त्रिदोषिक इनके रूप में जाना जाता है। यानी एक चिकित्सीय एजेंट जो तीनों दोषों कफ, वाद और पित्त को संतुलित करता है। यह विटामिन सी जैसे एंटीऑक्सीडेंट का एक समृद्ध स्रोत है जो प्रतिरक्षा के निर्माण करता है। सोने से पहले या खाली पेट त्रिफला की एक खुराक लेना अपने डिटॉक्सिफाइन गुड के कारण आंतरिक सफाई के लिए फायदेमंद हो सकता है।

त्रिफला चूर्ण वजन घटाने में भी मदद करता है क्योंकि यह उर्जा की मात्रा और शरीर में बसा में महत्वपूर्ण कमी को दर्शाता है। इसके एंटीऑक्सीडेंट गुड़ के कारण इसका सेवन कुछ हृदय रोग से भी सुरक्षा प्रदान करता है। त्रिफला चूर्ण को दूध के साथ लेने या त्रिफला कैप्सूल का सेवन करने से भी इसकी रोचक गुड़ के कारण कब्ज से राहत मिलती है।

त्रिफला-के-फायदे

त्रिफला और नारियल के तेल का पेस्ट को चेहरे पर लगाया जाता है। क्योंकि इसकी एंटीऑक्सीडेंट संपत्ति है। त्रिफला अपनी एंटी एक्सीडेंट गतिविधि के कारण आंखों के लिए भी अच्छा मन जाता है जो आपके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है।

त्रिफला बालों के झड़ने और नियंत्रित करने में मदद करता है और विटामिन सी की उपस्थिति के कारण सर पर लगाने पर बालों के विकास को बढ़ावा देता है इसका उपयोग सभी प्रकार के लिए सुरक्षित है। लेकिन अगर आपकी त्वचा रूखी है तो नारियल के तेल के साथ त्रिफला का उपयोग करने की सलाह दी जाती है। त्रिफला के अधिक सेवन से दस्त हो सकता है।

त्रिफला कैसे बना है ?

त्रिफला 3 आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों अमला, हरड़ वा बहेड़ा से मिलकर बना होता है।

त्रिफला के लाभ

क्या त्रिफला मधुमेह के लोगों के लिए अच्छा है। क्या त्रिफला कब्ज के लिए अच्छा है। क्या त्रिफला तनाव कम करने के लिए अच्छा है चलिए इन सभी बातों को साफ साफ समझते हैं और जानते हैं त्रिफला का उपयोग कैसे क्या हैं।

कब्ज के लिए त्रिफला का उपयोग

आयुर्वेदिक दृस्तिकरण से देखे तो कब्ज से राहत पाने के लिए किया जाता है। कब्ज एक बड़े हुए वात दोस्त की कारण होता है। यह जंक फूड का बार-बार उपयोग, कॉफी या चाय का सेवन, तनाव आदि के कारण हो जाता है। यह सभी कारक शरीर में वाद को बढ़ाते हैं और कब्ज पैदा करते हैं त्रिफला का सेवन इसके रीजन और वात संतुलन गुणों के कारण कब से राहत दिलाने में मदद करता है।

  • 1/2 या 2 चम्मच त्रिफला चूर्ण ले
  • कब्ज से छुटकारा पाने के लिए सोते समय गुनगुने पानी के साथ इसे निगल ले।

कमजोर प्रतिरक्षा में त्रिफला का उपयोग

त्रिफला व्यापक रूप से दिन प्रतिदिन स्वास्थ्य समस्याओं से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए उपयोग किया जाता है। यह इसकी रसायन संपत्ति के कारण है।

कमजोर प्रतिरक्षा में त्रिफला का उपयोग कैसे करें

  • 1/2 से 2 चम्मच त्रिफला चूर्ण सुबह हल्का भोजन करने के बाद शहद के साथ में ले
  • अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए इसे रोजाना दोहराना है।

लीवर की समस्या में त्रिफला का उपयोग

त्रिफला लीवर की समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार लीवर का अग्नि पाचन और पितृदोष के साथ घना संबंध है। अग्नि और पित्त दोष में किसी भी तरह का असंतुलन लीवर की दुर्बलता का कारण बनता है। त्रिफला के नियमित सेवन से त्रिदोष वात पित्त,कफ संतुलन के कारण अग्नि और पित्त को संतुलित करने में मदद मिलती है यह अपने रसायन प्राकृतिक के कारण लिवर को स्वस्थ और मजबूत बनाता है।

लीवर की समस्या में त्रिफला का उपयोग कैसे करें

  • दो से तीन चम्मच त्रिफला का रस लें
  • उतनी ही मात्रा पानी में डालें
  • इसे भोजन से पहले दिन में एक या दो बार पिए।

मोटापा/वजन कम करने के में त्रिफला

त्रिफला सबसे सुरक्षित आयुर्वेदिक में से एक है। वजन में वृद्धि अस्वास्थ्य कर भोजन की आदतों और जीवनशैली के कारण होती है। जो कमजोर पाचन अग्नि की ओर ले जाती है। यह आमा के संचय को बढ़ाता है। जिससे मैदा धातु में असंतुलन पैदा होता है और इसके परिणामस्वरूप मोटापा होता है। त्रिफला का सेवन करने से आमा को उसके दीपन (भूख बढ़ाने वाला) और पाचन गुणों के कारण दूर करने में मदद करती है। यह मैदा धातु के असंतुलन को भी ठीक करता है त्रिफला अपने रेचन गुण के कारण आत से अपशिष्ट पदार्थ को भी निकालता है।

मोटापा कम करने में त्रिफला का उपयोग कैसे करें

  • डेढ़ से दो चम्मच त्रिफला चूर्ण में मोटापे को नियंत्रित करने के लिए
  •  सोते समय गुनगुने पानी के साथ इसे निगल ले।

बालों के झड़ने में त्रिफला का उपयोग

त्रिफला बालों के झड़ने को नियंत्रित करने और सर में लगने पर बालों के विकास को बढ़ावा देने में मदद करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बालों का झड़ना मुख्य रूप से शरीर में बढ़े हुए वात दोष के कारण होता है। त्रिफला वाद को संतुलित बनाने में मदद करता है और रूसी को भी नियंत्रित करता है जो बालों के झड़ने का प्रमुख कारण होते हैं।

बालों के झड़ने में त्रिफला का उपयोग कैसे करें

  • आधा से एक चम्मच बड़ा त्रिफला चूर्ण ले।
  • दो कप पानी डालें पानी को मध्यम आंच पर तब तक उबालें जब तक कि पानी आधा ना रह जाए।
  • इसे पूरी तरह से ठंडा होने दें और अपने स्कैल्प पर लगाएं 30 मिनट तक रखें।
  • अपने बालों को माइल्ड हर्बल शैंपू से इसे हफ्ते में एक या दो बार दोहराएं।

मुहासे में त्रिफला का उपयोग

मुहांसे या पिंपल्स जैसे संबंधी समस्या के मामले में त्रिफला अच्छा परिणाम देता है। आयुर्वेद के अनुसार कफ के बढ़ने से सेबम का उत्पादन बढ़ जाता है और रुम छिद्र बंद हो जाते हैं। जिससे पिंपल और मुंहासे दोनों बनते हैं इसी के कारक सेबम के भरने से लाल पपल्स और मवाद के साथ सूजन को जाती है। त्रिफला का उपयोग करने से पित्त कफ संतुलन गुणों के कारण मुंहासे या फुंसियों को कम करने में मदद मिलती हैं।

मुंहासे, पिंपल्स के लिए त्रिफला का उपयोग कैसे करें

  • आधा से एक चम्मच त्रिफला चूर्ण
  • इसे नारियल के तेल में मिलाकर पेस्ट बना ले।
  • इस स्पेस को हल्के हाथों से मिलते हुए अपने चेहरे पर लगाएं
  • और 10 मिनट के लिए छोड़ दें इसके बाद धुले

त्रिफला का उपयोग करते समय सावधानियां

क्या त्रिफला रुखी त्वचा के लिए सुरक्षित है क्या त्रिफला से आंखों में जलन होती है। चलिए इन सब के बारे में जान लेते हैं।

त्रिफला का सेवन कितना अच्छा है

त्रिफला को लेना आमतौर पर स्वरचित होता है हालांकि अगर इसका अधिक मात्रा में सेवन करते है तो तो यह गैस्ट्रो समस्या पैदा कर सकती हैं।

क्या त्रिफला को रोजाना लेना अच्छा है

त्रिफला का रोजाना सेवन करना अच्छा माना जाता है। यह रक्त शर्करा के स्तर आंतों के संक्रमण को प्रभावित करने में मदद करता है। और कब्ज से राहत प्रदान करता है। इसके अलावा त्रिफला में जीवाणु रोधी इम्यूनोमोड्यूलेटर एंटीऑक्सीडेंट रक्त शुद्ध करने और घाव भरने के गुण होते हैं। इसीलिए त्रिफला को अनुवांशिक खुराक में प्रतिदिन लिया जा सकता है।

मुझे त्रिफला कब लेना चाहिए

वैज्ञानिक आधुनिक विज्ञान दृष्टिकोण से त्रिफला को सोने से 30 मिनट पहले लेना सबसे अच्छा है। क्योंकि यह इसके रिचा का और अन्य पाचन लाभों को प्राप्त करने का सबसे अच्छा समय है।

क्या त्रिफला कब्ज के लिए अच्छा है

वैज्ञानिक आधुनिक विज्ञान देखें त्रिफला धीरे-धीरे कोलन को साफ करता है और कब्ज पेट फूलना और सूजन से राहत देता है।

क्या त्रिफला आंखों के लिए अच्छा है

वैज्ञानिक आधुनिक विज्ञान की दृष्टि से त्रिफला आंखों के लिए अच्छा है यह विटामिन सी और प्लेवोनोइट्स एक समृद्ध स्रोत है। अध्ययनों में यह भी कहा गया है कि त्रिफला की एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि कुछ एंजाइमों को बढ़ाने में मदद करती है जो आंखों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए उपयोगी होते हैं।

क्या मधुमेह रोगियों के लिए त्रिफला अच्छा है

त्रिफला पाचन एंजाइमों को रोककर मधुमेह विरोधी गतिविधि कर सकता है। यह ग्लाइकोलाइट एंजाइम को रोक कर ग्लूकोज के अवशोषण को भी कम करता है यह रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है।

क्या त्रिफला गठिया के लिए अच्छा है

त्रिफला में सूजन रोधी गुण होते हैं और गठिया के लिए अच्छा है यह उस चैनल को और उधर के भड़काऊ मध्यस्थों की गतिविधि को कम करता है जिससे वे उत्पन्न होते हैं यह जोड़ों में दर्द और सूजन को कम करता है।

क्या तनाव कम करने के लिए त्रिफला अच्छा होता है

त्रिफला में तनाव रोधी गुण होते हैं और यह तनाव को नियंत्रित करने में मदद करता है।

क्या त्रिफला वज़न कम करता है।

अध्ययन से पता चलता है कि त्रिफला वजन घटाने और शरीर की चर्बी कम करने में मदद करता है। त्रिफला संकुल कोलेस्ट्रॉल क्राइस्ट राइट और एलडीएल को कम करने में मदद करता है।

क्या त्रिफला उच्च रक्तचाप का कारण बनता है ?

त्रिफला में संतुलन गुड होता है और इसे उच्च रक्तचाप नहीं होता। लेकिन अगर आपको पहले से ही उच्च रक्तचाप है तो सलाह दी जाती है कि कि इसे लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले।

त्रिफला की अनुवांशिक खुराक

  • त्रिफला चूर्ण एक से दो चम्मच दिन में एक या दो बार ले
  • त्रिफला कैप्सूल एक से दो कैप्सूल दिन में दो बार ले
  • त्रिफला टेबलेट एक से दो टेबलेट दिन में दो बार ले
  • त्रिफला जूस दो से तीन चम्मच दिन में एक बार या दो बार ले सकते हैं।

45 दिनों के लिए 5 ग्राम त्रिफला पाउडर के साथ पूरक भी रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है। आयुर्वेदिक दृष्टिकोण त्रिफला चूर्ण अग्नि मंडल कमजोर पाचन अग्नि और कब्ज जैसी पाचन समस्याओं के प्रबंधन में फायदेमंद है क्योंकि इससे भूख बढ़ाने वाला पाचन और रेचक गुण होते हैं। यह पाचन अग्नि में सुधार करने में मदद करता है। जिससे पाचन में सुधार होता है जो शरीर सेमल के आसन मांग को बढ़ा आराम देता है जिससे कब्ज से राहत मिलती है।

 

Leave a Reply