Ultrasound Scan क्या है। सोनोग्राफी क्यों और कब किया जाता है।

Ultrasound Scan जिसे हम सोनोग्राफी के नाम से भी जानते हैं। हेलो दोस्तों हेल्थ कि आज इस जानकारी में हम आपको बताने वाले अल्ट्रासाउंड स्कैन के बारे में Ultrasound Scan यानी की जांच क्या होता है कब और क्यों किया जाता है इस जानकारी में आपको अल्ट्रासाउंड के बारे में उसकी बातें बताएंगे जो आप ढूंढ रहे हैं।

ultrasound scan kya hai-Details-in-hindi

आपको बता दें कि यह एक तरह का जांच होता है जो शरीर के अंदर के अंगों को देखने के लिए किया जाता है इसके द्वारा हम शरीर के अंदर के सभी अंगों को देख सकते हैं  इसका सबसे ज्यादा उपयोग गर्भावस्था में किया जाता है जिसमें यह पता लगाया जाता है कि गर्ल में पल रहे बच्चे का स्वास्थ्य कैसा है किस किस स्थिति में है

आगे हम इसके बारे में पूरी डिटेल जानकारी आपको बताएंगे कृपया इस जानकारी को पूरा ध्यान से पढ़ें।

Ultrasound Scan क्या है कब और क्यों किया जाता है।

अल्ट्रसाउंड स्कैन टेस्ट क्या है।

Ultrasound मानव सुनवाई की ऊपरी श्रव्य सीमा से Frequency के साथ Sound Wave है। अल्ट्रासाउंड अपने भौतिक गुणों में ‘सामान्य’ (Frequency) Wave से अलग नहीं है, सिवाय इसके कि मनुष्य इसे सुन नहीं सकते हैं।

यह limit व्यक्ति से भिन्न होती है। और स्वस्थ, युवा वयस्कों में लगभग 20 kilohertz (20,000 hertz) है। Ultrasound डिवाइस 20 Gigahertz से लेकर 20 kHz तक Frequency के साथ काम करते हैं।

Ultrasound क्यों किया जाता है।

Ultrasound Scan Body के अंदर की Image को बनाने के लिए High Frequency Sound Wave का use करता है। यह Pregnancy के दौरान उपयोग के लिए उपयुक्त है।

Ultrasound Scan, या Sonography, सुरक्षित हैं क्योंकि वे Radiation के बजाय एक छवि बनाने के लिए Sound Wave या प्रतिध्वनियों का उपयोग karta हैं

Ultrasound कब और क्यों किया जाता है।

Ultrasound Scan का use भ्रूण के विकास के मूल्यांकन के लिए किया जाता है, और ये Liver,  Heart, गुर्दा या पेट में समस्याओं का पता लगा सकते हैं। वे कुछ प्रकार के Biopsy Display करने में भी सहायता कर सकते हैं।

Ultrasound जांच किस लिए किया जाता है।

Ultrasound निदान के लिए, Treatment के लिए और Biopsy जैसी Procedure के दौरान Guidelines के लिए Use किया जाता है।

इसका Use आंतरिक अंगों की जांच के लिए किया जा सकता है जैसे कि Liver और गुर्दे, Pancreas, Thyroid ग्रंथि, टेस्टेस और अंडाशय, और अन्य।

एक Ultrasound scan बता सकता है कि एक गांठ एक Tumer है या नहीं। यह Cancer हो सकता है, या एक Liquid से भरी हुई Syst हो सकती है

अल्ट्रासाउंड के प्रकार (Type of Ultrasound)

अधिकांश Ultrasound त्वचा की Surface पर एक Transuder का Use करके किया जाता है। कभी-कभी, हालांकि, Meditation और Techniciano ने शरीर के प्राकृतिक अवसरों में से एक में एक विशेष Transducer डालने से बेहतर Picture प्राप्त कर सकते हैं:

Transvaginal Ultrasound में, एक गर्भाशय और अंडाशय के बेहतर pictures प्राप्त करने के लिए एक Transducer की छड़ी एक महिला की योनि में रखी जाती है।

कभी-कभी प्रोस्टेट शर्तों के निदान में TransTectal Ultrasound का Use किया जाता है

Ultrasound काम कैसे करता है।

Ultrasound Heart के कक्ष में Blood के Chamber से Travel करेगा, अगर कोई पित्त नहीं हैं, तो यह पित्ताशय की थैली के Chamber से सीधे Travel करेगा, लेकिन अगर Stone हों, तो यह उनसे Reflect Kar देगा।

यह Reflect Sound Wave, या गूंज, Ultrasound Pictures को इसकी विशेषताओं को देता है भूरे रंग के रंग अलग-अलग घनत्वों को दर्शाते हैं।

अल्ट्रसाउंड कितने में होता है। Ultrasound Scan Price (Cost of ultrasound Test)

अल्ट्रासाउंड की कीमत पहले कम थी लेकिन अब उसकी कीमत बढ़ाकर 400 से लगभग 600 के बीच में हो गई है यदि आप एक अल्ट्रासाउंड करवाते हैं तो आपको 400 से ₹600 देने होंगे जिसकी कीमत कहीं कहीं और भी जादा हो सकती है।

Ultrasound Scan इस जानकारी को ध्यान से पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद आशा करता हूं कि आप कोई जानकारी समझ में आ गई हो। इसी तरह से हेल्थ और एजुकेशन से रिलेटेड जानकारी को प्राप्त करने के लिए हमारे इस वेबसाइट पर विजिट करते रहें। और जानकारी को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करते रहें किसी भी प्रकार की त्रुटि होने पर आप नीचे कमेंट करके हमसे पूछ सकते हैं।

Leave a Reply