Measles (खसरा) रोग क्या है टीकाकरण, लक्षण, कारण, उपचार क्या है

खसरा रोग क्या है (What is measles)

measles-cause-symptoms-and-Treatment

Measles (खसरा) सामान्यता बाल्यावस्था में होने वाला रोग है। यह रोग रुबिओला (Rubeolla) वायरस से होता है। इस रोग में पूरे शरीर पर छोटे- छोटे दाने निकल आते हैं। मुखगूहा तथा नाक की म्यूकस झिल्ली में सूजन आ जाने से जुखाम रहता है। साथ में बुखार भी रहता है।

खसरा होने के कारण क्या है (Causes of Measles)?

जब कोई खसरे का मरीज खास बातचीत आया बात करता है तो संक्रमित पौधे हवा में फैल जाती हैं।जिससे स्वस्थ व्यक्ति सांस लेने के दौरान अंदर ले जाते हैं। संक्रमित वंदे किसी भी सतह पर आ सकती हैं जहां वे कई घंटों तक सक्रिय और संक्रामक रहती है। संक्रमित सतह को छूने के बाद आंख, नाक तथा मुंह को छूकर वायरस से संक्रमित हो सकते हैं।

खसरा के लक्षण क्या है (Symptoms of Measles)?

  1. बुखार
  2. सुखी खांसी
  3. बहती नाक
  4. गले में खराश
  5. आंखों में सूजन
  6. त्वचा पर एक प्रकार के लाल चकत्ते

खसरा का परीक्षण (Measles Test)

डॉक्टर आमतौर पर बीमारी के लक्षणों के आधार पर खसरे का उपचार कर सकते हैं। यदि जरूरत लगे तो खून का परीक्षण कराए जोया पुष्टि कर सकता है कि याचक नेवादा ने वास्तव में खसरा है या नहीं।

खसरा के टीकाकरण कब लगता है

खसरा युक्त टीके की पहली खुराक हमेशा 12 महीने की आयु में दी जाती है। उन देशों में जहां खसरा प्रसाद की दर अधिक है वहां खसरा युक्ति के की पहली खुराक 9 महीने की आयु में दी जाती है। दूसरी खुराक देश के आधार पर अनेक महीनों या अनेक वर्षों बाद दी जा सकती है।

खसरा बिमारी के उपचार क्या है(Treatment of Measles)

खसरा का कोई विशिष्ट उपचार नहीं है। यदि कोई जटिलताएं नहीं है तो, निर्जलीकरण को रोकने के लिए डॉक्टर आराम और बहुत सारे तरल पदार्थों का सेवन करने की सलाह देते हैं।

इसके अतिरिक्त निम्नलिखित उपाय खसरे के इलाज में मदद कर सकते हैं

धूप का चश्मा बंद रोशनी या कमरे में अंधेरा रखने से रोगीको आराम मिलता है क्योंकि खसरा प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता बढ़ाता है।

यदि आंखों के चारों ओर कड़ापन आ जाता है तो एक गर्म और नए कपड़े से धीरे-धीरे साफ करें।

यदि आपके बच्चे का तापमान बहुत अधिक है तो उसके शरीर के तापमान को कम करने की कोशिश करनी चाहिए।

खांसी की दवा खसरे की खांसी से राहत नहीं देती। यदि बच्चा 12 महीने से अधिक है तो एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच नींबू का रस और 2 चम्मच शहद मिलाकर देने से राहत मिल सकती है।

बुखार में निर्जलीकरण हो सकता है इसलिए बच्चे को बहुत सारे तरल पदार्थ पिलाते रहना चाहिए।

खसरा में क्या खाना चाहिए क्या नहीं खाना चाहिए

खसरे में एक हेल्थी डाइट का पालन करके इसके दुष्प्रभाव को रोका जा सकता है।

  • संतरे और नींबू जिसमें विटामिन सी और फाइबर होता है सबसे अधिक फायदेमंद होता है।
  • बिना मसाले वाला सूप व संपूर्ण आहार वाली दलिया भोजन में दी जानी चाहिए।
  • अधिक से अधिक तरल पदार्थ जैसे फलों के जूस दिन में 6 से 8 गिलास पानी जरूर देना चाहिए।
  • चिकनाई वाले भोजन तथा वसायुक्त भोजन से परहेज करना चाहिए।
  • कॉफी और कोल्डड्रिंक जैसे कैफ़ीन युक्त पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • पालक हरी पत्तेदार सब्जियां आदि विटामिन A से भरपूर पदार्थों का सेवन लाभदायक होता है।

Leave a Reply