टीबी टेस्ट क्या है टीबी में कौन-कौन से जांच किए जाते हैं

टीबी टेस्ट-टीबी के लिए कितने प्रकार के टेस्ट हैं जिससे आप टीबी का पता लगा सकते हैं टीवी एक जानलेवा बीमारी है जो प्रत्येक कई लोग मौत के मुंह में चले जाते हैं किंतु सही समय पर डायग्नोसिस और ट्रीटमेंट से इस रोग की भयावहता को कम किया जा सकता है। तो आज की जानकारी में हम जानेंग। टीवी को जानने के लिए कौन-कोन से जांच किया जाता है। जिससे हम टीबी का पता लगा सकते हैं।

टीबी-टेस्ट-टीवी-के-लिए-कौन-कौन-से-जांच-की-जाती-हैं

टीबी टेस्ट के प्रकार,टीवी के लिए कौन-कौन से जांच किए जाते हैं

1.Sputam for AFB– टीबी को कंफर्म करने के लिए सबसे पहले बलगम टेस्ट किया जाता है। जिसे स्पूटम टीबी टेस्ट कहा जाता है। यदि किसी व्यक्ति को 15 दिन से अधिक खांसी होती है। तो बलगम या कफ की जांच की सलाह दी जाती है। इस टेस्ट के माध्यम से टीबी के व्यक्तित्व को माइक्रोस्कोप में देखा जाता है बैक्टीरिया की उपस्थिति टीबी की पुष्टि करता है। इसे आप किसी भी सरकारी अस्पताल में जाकर निशुल्क जांच करवा सकते हैं।

2.Chest X-ray– एक्स-रे के माध्यम से टीवी की वजह से जो नुकसान पहुंचा है। उसको देखा जाता है और फेफड़े का कौन सा पाठ ज्यादा इफेक्टिव है एक सर के माध्यम से पता चल जाता है। यदि आपकी स्पीड टेस्ट नेगेटिव आता है और टीवी के लक्षण आपके अंदर बने रहते हैं तो डॉक्टर आपको चेस्ट एक्सरे की करवाने की सलाह देता है। चेस्ट एक्सरे करवाने के बाद यदि डॉक्टर को लगता है कि आपको टीबी का इंफेक्शन है और आपका टीबी का इलाज शुरू किया जाना चाहिए तो डॉक्टर इस अदा पर टीबी का इलाज शुरू कर सकता है। इसे क्लिनिकली डायग्नोस्टिक टीबी कहा जाता है।

3.Mantoux test – टीबी का पता लगाने के लिए तीसरा टीबी टेस्ट है मोंटेक्स टीबी टेस्ट। इसमें ट्यूबरकुलीन या पीपीडी की छोटी सी मात्रा को लेकर व्यक्ति के स्किन के अप्पर लेयर में इंजेक्ट किया जाता है और 48 से 72 घंटे में इसकी प्रतिक्रिया को देखा जाता है। मोंटेक्स टेस्ट रिजल्ट में किसी भी प्रकार का लालिमा या फफोले की उपस्थिति होने पर पॉजिटिव टेस्ट को बताता है। यह शरीर की किसी भी टीबी को डिटेक्ट करने के लिए उपयोग में लिया जा सकता है। हालांकि यह टेस्ट टीबी के लिए किया जाता है किंतु केवल मोंटेक्स टेस्ट के आधार पर टीबी का इलाज नहीं किया जा सकता है। इसके साथ अन्य लक्षणों को भी ध्यान में रखा जाता है।

 4.CBNAAT-टीबी का पता लगाने के लिए अगला टेस्ट सीबीनात या क्रोनट किया जाता है या टेस्ट कफ, बलगम सैंपल द्वारा किया जाता है। किंतु इसमे बलगम की जांच सीबीनाट मशीन द्वारा की जाती है और इससे ना केवल टीबी की बैक्टीरिया का पता लगाया जाता है। बल्कि उस बैक्टीरिया के लिए काम में आने वाली दवाई के बारे में भी विशेष जानकारी प्राप्त होती है। बलगम के साथ-साथ शरीर की किसी भी अन्य बॉडी में टीबी का पता लगाया जा सकता है जैसे पलमोनरी टीबी और एक्स्ट्रा पलमोनरी टीबी कहा जाता है।

5.TB Gold-टीबी डायग्नोसिस के लिए हमारा अगला टेस्ट है टीबी गोल्ड, टीबी गोल्ड एक ब्लड टेस्ट है जो टीबी की बैक्टीरिया या माइक्रोबैक्टेरियम ट्यूबरक्लोसिस का पता लगाने के लिए किया जाता है यह मैनटॉक्स टेस्ट का आधुनिक विकल्प है। मोंटेक्स टीबी टेस्ट के विपरीत इसमें मरीज को केवल एक बार लैब में जाना होता है। और रिपोर्ट के लिए 2 से 3 दिन का इंतजार नहीं करना पड़ता है। मोंटेक्स टेस्ट की तरह यह भी एक्टिव टीबी और लेटर टीबी के मध्य में अंतर नहीं कर पाता है। इस टेस्ट के माध्यम से टीवी के विरुद्ध बनी एंटीबॉडी आईजीजी, आईजीएम का पता लगाया जाता है। यह भी पलमोनरी और एक्स्ट्रा पलमोनरी टीबी को डिटेक्ट कर सकता है।

यदि किसी व्यक्ति को टीबी टेस्ट करवाना होता है तो सभी टेस्ट करवाने की आवश्यकता नहीं होती है लक्षणों के आधार पर डॉक्टर जिस जांच के लिए आपको सजेस्ट करते हैं। वह जांच करवाई जा सकती है। रिपोर्ट के आधार पर टीबी के इलाज का अंतिम फैसला डॉक्टर द्वारा ही किया जाता है आशा करता हूं आपको हमारी जानकारी समझ में आएगा ही हो यदि आपको भी जानकारी संबंधित कुछ सवाल पूछने तो नीचे कमेंट में कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Leave a Reply